Headlines
Loading...
VRS क्या है ? वीआरएस लेने का नियम क्या हैं ?

VRS क्या है ? वीआरएस लेने का नियम क्या हैं ?

What is VRS Full Information in Hindi : - सरकारी या फिर गैर सरकारी संस्था में काम करने वाले कर्मचारियों को वीआरएस के बारे में जरूर जानकारी होनी चाहिए। अगर आप नए कर्मचारी या पुराने कर्मचारी है। तब भी आपको वीआरएस के बारे में जरूर पता होना चाहिए। क्योंकि वीआरएस एक ऐसा नियम है जिसके माध्यम से कोई भी कर्मचारी चाहे वह सरकारी हो या गैर सरकारी वह अपनी इच्छा से रिटायरमेंट ले सकता है। 

तो आज के इस ब्लॉग में हम आपको वीआरएस से जुड़ी संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं। जैसे VRS क्या होता है ? VRS का फूल फॉर्म क्या हैं ? VRS कब ले सकतें हैं ? VRS लेने का क्या नियम हैं। ये सभी जानकारी आज हम इस ब्लॉग में जानने वाले हैं।


VRS की फुल फॉर्म क्या हैं ? VRS Full Form in Hindi

VRS का पूरा नाम " Voluntary Retirement Scheme " होता हैं। जिसका हिंदी में मतलब स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना हैं। 


VRS क्या हैं ? What is VRS in Hindi 

सरकारी या गैर सरकारी संस्थाओं में काम करने वाले कर्मचारियों को अपनी इच्छा से रिटायरमेंट लेने के लिए भारत सरकार ने VRS यानी Voluntary Retirement Scheme को लागू कर दिया हैं। VRS को Golden Hand Shake नाम से भी जाना जाता हैं। वीआरएस एक ऐसा नियम है जिसके माध्यम से भारत का कोई भी कर्मचारी अपनी निर्धारित रिटायरमेंट के समय से पहले अपनी इच्छा से रिटायरमेंट ले सकता हैं। 

इसके अलावा कुछ कंपनी या संस्था अपने पुराने कर्मचारियों को निकालने के लिए यह तरीका अपनाती है। जिसमें पुराने कर्मचारियों को एक निश्चित अमाउंट देकर उन्हें कंपनी से निकाल दिया जाता हैं। और इन संस्थाओं में काम करने वाले नए कर्मचारियों पर यह नियम लागू नहीं होता है। 

अगर कोई कर्मचारी सरकारी या गैर सरकारी संस्था में अपनी सेवा 20 वर्षों तक कंप्लीट कर लेता है। और कर्मचारी की उम्र 50 वर्ष से अधिक हो गई है तब वह वीआरएस के तहत रिटायरमेंट ले सकता है। 


वीआरएस कब ले सकते हैं ? 

> अगर कोई कर्मचारी सरकारी या प्राइवेट संस्था में 30 वर्षों तक अपनी सर्विस कंप्लीट कर चुका है। तब वह Rule no. 48 के तहत अपनी इच्छा से रिटायरमेंट के लिए आवेदन कर सकता है।

> यदि कोई कर्मचारी किसी कंपनी या संस्था में 20 वर्षों तक अपनी सर्विस कंप्लीट कर चुका है। तब वह Rule No. 48A के तहत अपनी इच्छा से रिटायरमेंट के लिए आवेदन कर सकता है। 

> वहीं अगर किसी कर्मचारी की उम्र 50 वर्ष से अधिक हो गई है। तब वह FR 56 के तहत अपनी इच्छा से रिटायरमेंट ले सकता है। 


वीआरएस लेने का नियम क्या हैं ? What is VRS Rule in Hindi 

वैसे तो हमने आपको ऊपर ही क्लियर करके बता दिया है की सरकारी और प्राइवेट संस्थाओं में काम करने वाला कोई भी कर्मचारी जिन्होंने अपनी सर्विस 20 वर्ष कंप्लीट कर ली है और जिनकी उम्र 50 वर्ष से अधिक हो गई हैं। वह सभी कर्मचारी वीआरएस के तहत अपनी इच्छा से रिटायरमेंट के लिए आवेदन कर सकता हैं। लेकिन वीआरएस लेने से पहले आपको इसके नियम भी जरूर पता होने चाहिए। 

> सबसे पहले जिन कर्मचारियों ने 20 वर्षों तक किसी कंपनी में जॉब कर ली है और उनकी उम्र 50 वर्ष से अधिक हो गई है। तब वह वॉलिंटियर रिटायरमेंट स्कीम का लाभ उठा सकता है। 

> वीआरएस लेने से पहले अपॉइंटमेंट ऑफिसर को 3 से 4 महीने पहले डायरेक्ट एक नोटिस भेजना पड़ता है। 

> फिर अपॉइंटमेंट ऑफिसर के द्वारा उस नोटिस की जांच की जाती है। 

> जिसके बाद चुनाव के प्राधिकरण ऑफिसर को यह पूर्ण रूप से विश्वास हो जाता है कि इस कर्मचारी ने अपनी 20 वर्षों की सर्विस पूर्ण कर ली है। तब वह ऑफिसर उस कर्मचारी को वीआरएस दे देता है। 

तो दोस्तों उम्मीद करते हैं कि आपको VRS क्या होता है ? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी। अगर आपको वीआरएस स्कीम का फायदा उठाना हो तो इसके लिए आपको ऊपर बताए गए सभी नियमों का पालन करना पड़ेगा।

0 Comments: