Headlines
Loading...
स्वयं सहायता समूह क्या होता है ? What is SHG in Hindi

स्वयं सहायता समूह क्या होता है ? What is SHG in Hindi

What is SHG Full Information in Hindi : - दोस्तों हमारे देश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार की तरफ से अलग-अलग तरह की योजनाएं शुरू की जा रही है। इन्हीं में से एक SHG का कांसेप्ट है जिसमें महिलाएं आपस में एक ग्रुप का गठन करके अपना खुद का बिजनेस शुरू कर सकती है। तो इस ब्लॉग में हम आपको स्वयं सहायता समूह क्या होता हैं ? SHG का फुल फॉर्म क्या हैं ? SHG (Self Help Group) कैसे बनाए  ? इसी के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं तो कृपया करके आप इस ब्लॉग को शुरू से लेकर के अंत तक जरूर पढ़िएगा। 


SHG का फुल फॉर्म क्या हैं ? What is SHG Full Form 

SHG का फुल फॉर्म " Self Help Group " होता हैं जिसे हिंदी में स्वयं सहायता समूह के नाम से जानते है।


स्वयं सहायता समूह क्या होता है ? What is SHG in Hindi

Self Help Group मतलब स्वयं सहायता समूह इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यह समूह अपने आपकी मदद करने वाला है। SHG एक ऐसा समूह होता हैं जिसमें गांव, गली या मोहल्ले की 10 से 15 या इससे अधिक महिलाएं आपस में मिलकर के एक समूह का निर्माण करती हैं। इस समूह की मदद से महिलाएं छोटे-मोटे बिजनेस का स्टार्टअप शुरू कर सकती है। जैसे : - किसी प्रोडक्ट को सेल करना, मैन्युफैक्चरिंग का बिजनेस स्टार्ट करना, दूध डेयरी खोलना और गांव, गली या मोहल्ले में कोई सर्विस उपलब्ध करवाना इत्यादि।

हालांकि भारत सरकार की तरफ से SHG ग्रुप की महिलाओं के लिए कई प्रकार की योजनाएं शुरू की जा रही है। जिनका बेनेफिट डायरेक्ट SHG ग्रुप की महिलाओं को दिया जाता है। अगर महिलाएं अपने समूह का रजिस्ट्रेशन एनआरएल पोर्टल पर करा लेती है। तब उनको भारत सरकार की तरफ से बेनिफिट दिया जाता हैं। इसी के साथ ही ग्रुप की महिलाओं को आर्थिक लाभ भी दिया जाता हैं। 

इस समूह में जितनी भी महिलाएं शामिल होती है वे सभी मिलकर के कुछ फंड सेल्फ हेल्प ग्रुप में डिपॉजिट करती है। आपने जितना फंड सेल्फ हेल्प ग्रुप में डिपॉजिट किया है उसका दुगना फंड या चार गुना फंड आपको लोन के रूप में सरकार की तरफ से दिया जाता है। 

वैसे देखा जाए तो SHG ग्रुप का कांसेप्ट बाकी सभी योजनाओं से काफी अलग है क्योंकि इसमें 10 से 15 या इससे अधिक महिलाएं मिलकर के एक समूह का निर्माण कर लेती है। इसके बाद वे सभी महिलाएं आपस में कुछ फंड कलेक्ट कर के अपना खुद का बिजनेस स्टार्ट कर लेती है। या इन पैसों को किसी एक महिला को उधार दे देती है फिर जितने पैसे उधार दिए हैं उनका दो परसेंट ब्याज वसूल सकती है। हम आपको जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की इस ग्रुप में जितनी भी महिलाएं शामिल होती है। वे सभी आपस में मिलकर के एक ही तरह का बिजनेस स्टार्ट कर सकती है। 


SHG (Self Help Group) कैसे बनाए ? 

अब यह सवाल आता है कि सेल्फ हेल्प ग्रुप यानी स्वयं सहायता समूह कैसे बनाएं ? तो इसके लिए आपको सेल्फ हेल्प ग्रुप का रजिस्ट्रेशन NRLM पोर्टल पर कराना होगा। जिसका प्रोसेस हमने आपको नीचे स्टेप बाय स्टेप बता रखा है।

सेल्फ हेल्प ग्रुप बनाने का कंपलीट प्रोसेस : - 

सबसे पहले जितने भी महिलाएं सेल्फ हेल्प ग्रुप का गठन करना चाहती है उन सभी की एक साथ बैठक आयोजित की जाती है। फिर एक लेटर लिखा जाता है जिसमें SHG ग्रुप को किस उद्देश्य से और क्यों खोला जा रहा है ? और तो और जितनी भी महिलाएं इस ग्रुप में शामिल होती है। वे सभी यह डिसाइड करती है कि इस ग्रुप में कौन कौन किस पद को संभाल लेगा मतलब अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सचिव कौन कौन होगा। 

इसका एक लेटर लिखा जाता है जिसे आपको अपनी ग्राम पंचायत के ब्लॉक में सबमिट करना होता है। बेसीकली यह लेटर ग्राम पंचायत के ब्लॉक मिशन मैनेजर को देना होता है। फिर इसी के आधार ब्लॉक मिशन मैनेजर बैंक को एक लेटर पास करता है। फिर इसी लेटर के आधार पर आपका एक बैंक अकाउंट खोला जाता हैं। इस बैंक अकाउंट में सभी महिलाएं लगभग 50 से ₹100 कलेक्ट करके जमा करती हैं। 

3. अगर आपका एक बार बैंक अकाउंट ओपन हो जाता है तो उसके बाद आपके ग्रुप का NRLM पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना होता हैं। NRLM पोर्टल पर ग्रुप का रजिस्ट्रेशन नहीं करवाते हो तब आपको किसी भी प्रकार की गवर्नमेंट स्कीम का लाभ नहीं मिलेगा। 

4. तब इसके लिए आप अपने ब्लॉक मिशन मैनेजर से संपर्क करके अपने ग्रुप को NRLM पोर्टल पर रजिस्टर करवा लें। 

इस प्रोसेस को स्टेप बाय स्टेप फॉलो करके आप भी अपना एक SHG ग्रुप खोल सकते हैं। 


बैंक से सेल्फ हेल्प ग्रुप लोन कैसे लें ? 

अगर आप सेल्फ हेल्प ग्रुप चला रहे हो और आप बैंक से लोन लेना चाहते हो तो उसके लिए क्या पात्रता या शर्ते होनी चाहिए वैसे भी हम आपको नीचे बताने वाले हैं। 

> आपका सेल्फ हेल्प ग्रुप लगातार छह महीनों से एक्टिव होना चाहिए। 

> ग्रुप की महिलाओं ने थोड़े बहुत पैसों की बचत की हो।

> ग्रुप ने सदस्य महिलाओं को लोन दिया हो।

> ग्रुप के पास जितना फंड है उसकी ट्रांजैक्शन हिस्ट्री का रिकॉर्ड होना चाहिए। 

> ग्रुप के सभी सदस्य समान रूप से कार्यरत होने चाहिए।

> ग्रुप एक दूसरे की हेल्प करने और साथ मिलकर के काम करने के लिए बनाया गया हों। 


बैंक से SHG ग्रुप को लोन कितना मिलता हैं ? 

इस ग्रुप की महिलाओं ने जितना फंड ग्रुप में बचा रखा है उसी के अकॉर्डिंग उनको लोन दिया जाएगा। मान लो अगर किसी ग्रुप में ₹100000 भी बचा रखे हैं तो इसका दोगुना ₹200000 लोन मिलेगा। इसका 4 गुना ₹400000 भी मिल सकता है। 

काफी महिलाओं ने कोरोना के समय साथ मिलकर के मास्क बनाए थे और अपना कमाने का सोर्स निकाला था। यह तरीका काफी हद तक सही भी है क्योंकि महिलाएं अपने आप पर निर्भर हो जाती हैं। वैसे आपको हमारे द्वारा SHG यानी सेल्फ हेल्फ ग्रुप पर दी गई जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा। हम आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी जरूर पसंद आई होगी अगर पसंद आए तब आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर कीजिएगा। 

0 Comments: